Ministry of Education
Ministry of Education

NATIONAL ICT AWARDS


इस संबंध में पूछे जाने वाले प्रश्न
1. प्रत्येक वर्ष कितने पुरस्कार दिए जाने हैं?
प्रत्येक वर्ष, शिक्षकों को शिक्षण-अधिगम और मूल्यांकन में आईसीटी के अभिनव उपयोग के लिए कुल 36 पुरस्कार दिए जाने हैं। वर्ष 2020 और 2021 के लिए प्रविष्टियाँ आमंत्रित गयी हैं, अतः दोनों वर्षों के लिए पुरस्कारों की कुल संख्या 36+36 = 72 होगी। 2021 से पुरस्कारों की 2 नई श्रेणियां शुरू की जा रहीं है, पहली शिक्षक प्रशिक्षकों के लिए जिसकी संख्या 10 और दूसरी उत्तम प्रयासरत राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के लिए जिसकी संख्या 3 निर्धारित की गई हैं।

2. कौन आवेदन कर सकते है?
क. निम्नलिखित संगठनों के फाउंडेशनल, प्रिप्रेटरी, मिडिल और सेकेंडरी विद्यालयों के शिक्षक इस योजना के तहत आवेदन करने के पात्र हैं:
● राज्य सरकारों/केंद्र शासित प्रदेशों के प्रशासन द्वारा संचालित विद्यालय, स्थानीय निकायों द्वारा संचालित विद्यालय, राज्य बोर्ड से संबद्ध निजी विद्यालय, राज्य सरकार और केंद्र शासित प्रदेशों के प्रशासन द्वारा सहायता प्राप्त निजी विद्यालय।
● केंद्रीय सरकार के विद्यालय जैसे केंद्रीय विद्यालय, जवाहर नवोदय विद्यालय, रक्षा मंत्रालय द्वारा संचालित विद्यालय, सैनिक स्कूल, परमाणु ऊर्जा शिक्षा समिति (AEES) द्वारा संचालित विद्यालय, जनजातीय कार्य मंत्रालय, भारत सरकार के तहत एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय और भारत सरकार के तहत अन्य मंत्रालयों/संगठनों द्वारा संचालित विद्यालय।
● काउंसिल फॉर इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्ज़ामिनेशन (CISCE) से संबंधित विद्यालय।
● केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) से संबंधित विद्यालय।

ख. शिक्षक प्रशिक्षक: वर्ष 2021 के लिए, BIETs, DIETs, CTEs, IASEs, SIEMATs, SIEs, SIETs, SCERTs में कार्यरत शिक्षक प्रशिक्षक, राज्य सरकार/केंद्र शासित प्रदेश/केंद्र प्रशासन और स्वायत्त रूप से संचालित विश्वविद्यालयों के शिक्षक प्रशिक्षक पुरस्कार के लिए आवेदन कर सकते हैं।

ग. राज्य/केंद्र शासित प्रदेश: वर्ष 2021 से राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के लिए राष्ट्रीय आईसीटी पुरस्कार प्रस्तावित किया गया है। भारत सरकार द्वारा उत्तम प्रयासरत राज्य तथा केंद्र शासित प्रदेशों के लिए सर्वश्रेष्ठ 3 (तीन) आईसीटी पुरस्कारों को संस्थित किया गया है।

3. क्या खेल, रंगमंच, पेंटिंग, शारीरिक शिक्षा जैसे सभी विषय क्षेत्रों में कार्यरत स्कूल प्रमुख/प्राचार्य, शिक्षक भी आवेदन कर सकते हैं?
हां, स्कूल हेड/प्रिंसिपल/फिजिकल ट्रेनर, स्पोर्ट्स टीचर, लाइब्रेरियन भी आवेदन कर सकते हैं।

4. चूंकि पुरस्कार दो वर्षों (2020 और 2021) के लिए दिया जाना है, क्या मुझे दो बार आवेदन करने की आवश्यकता है?
यदि आप एक शिक्षक हैं, तो केवल एक ही वर्ष 2020 या 2021 के लिए आवेदन कर सकते हैं। शिक्षक प्रशिक्षकों और उत्तम प्रयासरत राज्यों को केवल वर्ष 2021 के लिए ही आवेदन करने की आवश्यकता है।

5. पुरस्कार के रूप में क्या दिया जाता है?
प्रत्येक पुरस्कार विजेता शिक्षक और शिक्षक प्रशिक्षक को एक आईसीटी किट, एक लैपटॉप, एक पदक और एक प्रमाण पत्र दिया जाएगा। पुरस्कार विजेता को अन्य राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों, शिक्षकों/शिक्षक प्रशिक्षक को प्रेरित करने और प्रशिक्षित करने के लिए अपने विषय क्षेत्र के सलाहकार (संसाधन व्यक्ति) के रूप में कार्य करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। सभी पुरस्कार विजेता नेटवर्किंग के माध्यम से संसाधन व्यक्तियों का एक समुदाय बनाएंगे। उत्तम प्रयासरत राज्यों को एक प्रमाण पत्र और ट्रॉफी दी जाएगी।

6. आवेदन कैसे करें?
योग्य आवेदक दिए गए पोर्टल https://ictaward.ncert.gov.in पर मोबाइल नंबर या ई-मेल आईडी दे कर और पासवर्ड चुनकर अपना पंजीकरण कर सकते हैं। पंजीकरण के बाद आप पोर्टल पर विभिन्न प्रश्नों के उत्तर देकर लॉग इन और ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। पोर्टल पर आवेदक द्वारा अपने काम को पीडीएफ फाइल और वीडियो के रूप में अपलोड करना आवश्यक है। एस प्रक्रिया को पूर्ण करना अनिवार्य है अन्यथा आवेदन मान्य नहीं होगा।

7. पोर्टल पर वीडियो और सहायक दस्तावेज (पीडीएफ फाइल) कैसे अपलोड करें?
वीडियो को अपलोड करने का सबसे आसान तरीका है, पहले अपना वीडियो यूट्यूब पर अपलोड करें और फिर पोर्टल पर यूट्यूब वीडियो लिंक संलग्न करें। दस्तावेज़ों के लिए आप अपने दस्तावेज़ Google ड्राइव पर पासवर्ड के बिना अपलोड करें और पोर्टल पर अपने पीडीएफ दस्तावेज़ के Google ड्राइव लिंक को साझा कर सकते हैं।

8. शिक्षक, शिक्षक प्रशिक्षक को कौन मनोनीत कर सकता है?
यह एक स्व-नामांकित पुरस्कार है। कोई भी शिक्षक, शिक्षक प्रशिक्षक अंतिम तिथि से पहले वेब पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन पत्र भरकर सीधे आवेदन कर सकता है।

9. पुरस्कार के लिए कौन पात्र नहीं हैं?
सेवानिवृत्त शिक्षक, शिक्षक प्रशिक्षक जिन्होंने कैलेंडर वर्ष के दौरान कम से कम 4 महीने तक सेवा नहीं दी है, जिसके लिए आईसीटी पुरस्कार (2020 या 2021) की घोषणा की जानी है तथा शिक्षक या प्रधानाध्यापक जो ट्यूशन, निजी कोचिंग, संविदा शिक्षक और शिक्षा मित्र में लिप्त हैं, आवेदन भरने के पात्र नहीं हैं।

10. आवेदनों के लिए मूल्यांकन मानदंड क्या हैं?
प्रविष्टियों/आवेदनों का मूल्यांकन विस्तृत दिशा-निर्देशों में दिए गए मूल्यांकन आव्यूह के आधार पर किया जाएगा।

11. मेरे द्वारा खुद को नामांकित करने के बाद आगे की क्या प्रक्रिया है?
● शिक्षकों के लिए: स्व-नामांकन के लिए निर्धारित समय सीमा के बाद, सचिव (स्कूल शिक्षा/एसपीडी-समग्र शिक्षा, निदेशक, एससीईआरटी की अध्यक्षता में राज्य स्तरीय समिति, सचिव (स्कूली शिक्षा) द्वारा नामित आईसीटी के क्षेत्र के दो विशेषज्ञ सभी प्रविष्टियों की जांच करेंगे और उम्मीदवारों का चयन करेंगे, और आगे की कार्रवाई के लिए इसे संयुक्त निदेशक, केंद्रीय शैक्षिक प्रौद्योगिकी संस्थान (सीआईईटी), एनसीईआरटी, नई दिल्ली -110016 को अग्रेषित करेंगे। सभी सफल उम्मीदवारों को राष्ट्रीय स्तर पर चयन के समक्ष अपने कार्य की प्रस्तुतीकरण करने की आवश्यकता होगी।
● शिक्षक प्रशिक्षकों के लिए: शिक्षा निदेशालय, प्रमुख सचिव/सचिव (स्कूल शिक्षा)/एसपीडी-समग्र शिक्षा की अध्यक्षता वाली राज्य स्तरीय समिति की मदद से मूल्यांकन कर राष्ट्रीय स्तर के लिए शॉर्टलिस्ट कर उम्मीदवारों को अग्रेषित करेगा। राज्य स्तर पर चुने गए उम्मीदवारों को के.शै.प्रौ.सं.-रा.शै.अ.प्र.प. में निदेशक, रा.शै.अ.प्र.प. की अध्यक्षता में शिक्षा मंत्रालय द्वारा गठित समिति के समक्ष प्रस्तुतीकरण देना होगा।
● राज्यों/केंद्र शासित प्रदेश: उत्तम प्रयासरत राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के लिए संघ राज्य क्षेत्रों के लिए प्रविष्टियों का मूल्यांकन सीधे राष्ट्रीय स्तर पर गठित चयन समिति द्वारा किया जाएगा।

12. इस प्रक्रिया की महत्वपूर्ण समयरेखा क्या हैं?
● पोर्टल पर पुरस्कारों का नामांकन 1 मई 2022 से प्रारम्भ होगा जिसकी घोषणा शिक्षा मंत्रालय और एनसीईआरटी की वेबसाइट पर होगी
● राज्य/केंद्र शासित प्रदेशों/संगठन के शिक्षक, शिक्षक प्रशिक्षक तथा उत्तम प्रयासरत राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा विस्तृत प्रविष्टियां जमा करने की अंतिम तिथि : 15 अगस्त 2022
● राष्ट्रीय स्तर की जूरी समिति की बैठक : सितंबर 2022

13. मैं नामांकन फॉर्म कहां से प्राप्त कर सकता/सकती हूं?
ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया https://ictaward.ncert.gov.in पोर्टल पर उपलब्ध है। पुरस्कार हेतु आवेदन करने के लिए आवेदक को वेब पोर्टल welcome.aspx पर अपना पंजीकरण कराना होगा। किसी भी प्रकार का कागज़ी आवेदन पत्र नहीं भरा जाएगा केवल ऑनलाइन आवेदन ही स्वीकार किए जायेंगे।

14. ऑनलाइन आवेदन करने के बाद क्या मुझे हार्डकॉपी भी भेजनी चाहिए?
नहीं, आपको हार्डकॉपी में कुछ भी भेजने की जरूरत नहीं है।

15. आवेदनों के विभिन्न भाग कौन से हैं जिन्हें मुझे स्वयं को नामांकित करने के लिए भरने की आवश्यकता है?
पंजीकरण करने पर, आवेदक को आवेदन के 4 अलग-अलग भाग भरने होंगे जैसे प्राथमिक जानकारी, स्कूल की जानकारी, आवेदक की प्रोफ़ाइल, उद्देश्य और मानदंड आधारित प्रश्न। सफल आवेदन के लिए सभी वर्गों को भरना अनिवार्य है।

16. क्या आवेदन पंजीकरण के साथ ही पूरा किया जाना चाहिए? क्या मुझे एक बार में ही सभी सवालों का जवाब देना होगा?
नहीं, आवेदन अलग-अलग समय पर पूरा किया जा सकता है। अपलोड करने के बाद आवेदक जानकारी को सेव (save) कर सकता है। अगली बार, आवेदक को यूज़रनेम/मोबाइल नंबर और पासवर्ड का उपयोग करके बस लॉग इन करना होगा जिससे आवेदन को पिछली बार जहां छोड़ा गया था वहां से जारी रखते हुए आवेदन को भरा जा सकता है।

17. मैं अपना यूज़रनेम भूल गया/गई हूँ, मैं कैसे लॉग इन करूं?
यदि कोई अपना यूज़रनेम भूल गया है तो अपने आवेदन में लॉग इन करने के लिए अपने मोबाइल नंबर का उपयोग कर सकता है।

18. मैं अपना पासवर्ड भूल गया/गई हूँ, मैं कैसे लॉग इन करूं?
आवेदक अपना यूज़र आईडी/मोबाइल नंबर देकर अपना पासवर्ड पुनः प्राप्त कर सकता है।

19. क्या मैं जमा करने से पहले अपने आवेदन पुनरीक्षण कर सकता हूं?
हां, आवेदक अंतिम रूप से जमा करने से पहले अपने आवेदन का पुनरीक्षण कर सकते हैं। परन्तु अंतिम सबमिशन के बाद, आवेदक अपने द्वारा दी गई जानकारी को बदल नहीं सकता है।

20. क्या आवेदकों के लिए कोई ई-मेल हेल्प-डेस्क है?
हां, आपकी सहायता के लिए एक ई-मेल हेल्प डेस्क है। किसी भी सहायता के लिए हमें ict-award@ncert.nic.in पर लिखें।

वेबसाइट की सामग्री का स्वामित्व एवम् प्रबंधन राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग, शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा किया जाता है।.
यह साइट राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी), इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा अभिकल्पित, विकसित, पोषित और अनुरक्षित है।